Meri tanhayi

Just another weblog

85 Posts

128 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10234 postid : 135

क्षणिका

Posted On: 16 Apr, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Tanhayi

1-
हिन्दू, मुस्लिम,
सिक्ख, इसाई,
सबको डस गयी
ये मंहगाई.

2-
क्षण में फूंक दे
खुद को भी
आक्रोश

3-
तुम्हारी व्यथा
मन की कथा
तुम्हारी जुबानी
मेरी कहानी

4-
धर्मार्थ हो,
परमार्थ हो,
इसमें न कोई
स्वार्थ हो.

5-
हार गया
पहलवान
समय बड़ा
बलवान

--गोपाल के.



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
17/04/2012

एक  लाभ  तो निश्चित  ही करती हैं यह मँहगाई, एक  हो जाते हैं हिन्दु, मुस्लिम , सिक्ख, ईसाई।

    gopalkdas के द्वारा
    17/04/2012

    हाँ जी बिलकुल सही कहा आपने अभिवादन


topic of the week



latest from jagran